पेज

सोमवार, 14 नवंबर 2016

तुम अलग युग की कहानी

तुम अलग युग की कहानी
हम अलग युग की कथा हैं,
व्यक्त जिनको कर न पाए
मूकवत मन की व्यथा हैं ।।
तुम किसी मरुभूमि में से
मेघ का संधान हो क्या?
साधना की ही नहीं पर
ईश का वरदान हो क्या??
- अभिषेक

3 टिप्‍पणियां:

  1. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 15/11/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब ...
    हम कथा तुम कहानी हो
    प्रेम की बात आनी जानी हो

    उत्तर देंहटाएं