बुधवार, 29 अप्रैल 2015

बस यूँ ही :)

किसी की आँख में काजल
किसी की आँख है काजल
किसी के जुल्फ में  बादल
किसी की ज़ुल्फ़ है बादल
किसी के रुह में मैं हूँ
किसी का रुह हूँ अब मैं
दीवाने दिल की साजिश ने
किया मुझको बहुत पागल।।

9 टिप्‍पणियां:

  1. वाह भई वाह। बहुत खूब। सुंदर और भावपूर्णं रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप तो ऐसे बिलकुल न थे !
    समझ रहे हैं की क्यों शायराना हो रहे हो !


    सुन्दर लिखा है !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हा हा हा।
      भाई प्रेम नहीं हुआ है...आपका इशारा समझ रहा हूँ।

      हटाएं
  3. बढ़िया है ये शायराना अंदाज भी अभिषेक जी। :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. किसी की आँख में काजल
    किसी की आँख है काजल
    अतीव सुन्दर, उत्तम

    उत्तर देंहटाएं