मंगलवार, 28 अप्रैल 2015

इंतज़ार!(लौट आओ न!)

उन अधूरी बातों का क्या
जो निकलते ही नहीं
हलक से,
कहीं तो-कभी तो
पूरी हों
ये हसरतें
न जाने क्यों
उम्मीदें अधूरी रह जाती हैं;
तुम थे
वक्त ठहरा था
हवा, फ़िज़ा, बादल
सब साथ थे
तुम गए तो कुछ न रहा
साँस चलती है
किसी तरह
तुम्हारे बिन,
अगर ये ज़िन्दगी है
तो
समझ लो ज़िंदा हूँ;
इन अधूरी धड़कनों का क्या
जिस दिन भी
धड़कना बंद कर दें
फिर कौन तुम
 कौन हम?
सब कुछ स्थिर
शून्य
अड़िग,
न धड़कने रूकती है
न साँस
शायद इन्हें भी
इंतज़ार है
तुम्हारे आने का
कितने पागल हैं न हम
जो
इंतज़ार करते हैं।

8 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेम में इंतज़ार के अलावा कुछ है भी कहाँ ... चाहे अंतिम सांस तक ... अच्छी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शायद इन्हें भी
    इंतज़ार है
    तुम्हारे आने का
    कितने पागल हैं न हम
    जो
    इंतज़ार करते हैं।
    इस इंतज़ार में भी अपना एक अलग ही आनंद है मित्रवर अभिषेक जी !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया दिल से निकला हुआ हर शब्द

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम का दूसरा नाम शायद इंतजार ही है...बहुत भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत भावपूर्ण रचना अभिषेक जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम इंतज़ार करेंगे कयामत तक........

    उत्तर देंहटाएं