मंगलवार, 29 जुलाई 2014

यादें



                                                 तुम्हारी आँख लगती है
                                                            तो आँखे बंद होती है,
                                                 तुम्हारी नींद खुलती है
                                                            तो साँसे मंद होती है,
                                                  अजब है हाल -ए-दिल मेरा
                                                           जुड़ा हूँ जब से मैं तुमसे,
                                                  मेरे अपने ही धड़कन से
                                                            मेरी ही जंग होती है.

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूबसूरत नज़्म अभिषेक जी। सचमुच भावो को शब्द दे दिये आपने। बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  2. शब्दों और भावों का बेजोड़ संगम

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह क्या बात है ... खुद से ही जंग है वो भी उनके लिए ... इसे ही प्रेम कहते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं